प्राचीन भारतक महाकाव्य महाभारतक अनुसार युधिष्ठिर पाँच पाण्डवसभमे सभसँ पैग भाए छल। ओ पाण्डुकुन्तीक पहिल पुत्र छल। युधिष्ठिरक धर्मराज (यमराज) पुत्र सेहो कहल जाएत अछि। ओ भाला चलाबऽमे निपुण छल आ ओ कखनो झूठ नै बाजैत छल। [१]

युधिष्ठिर
Yudhishthira
छत्रपति महाराज
बिरला मन्दिर, दिल्ली मे एक शैल चित्र
बिरला मन्दिर, दिल्ली मे एक शैल चित्र
पुर्वाधिकारीधृतराष्ट्र
परीक्षित
सङ्गिनीद्रौपदी
वंशपाण्डव, कुरुवंश
पितापाण्डु
माताकुन्ती


व्युत्पत्तिसंपादित करें

जन्म आ सङ्गोष्ठीसंपादित करें

विवाह आ सन्तानसंपादित करें

इन्द्रप्रस्थसंपादित करें

राजसुयाक प्रदर्शन केनाएसंपादित करें

राज्य गुमेनाए आ निर्वासनसंपादित करें

इन्द्रप्रस्थ आ कुरुक्षेत्र युद्ध पर लौटनाएसंपादित करें

सेवानिवृत्ति आ स्वर्गक उन्नयनसंपादित करें

नरकमे धैर्यक परिक्षणसंपादित करें

युधिष्ठिरक अभिशापसंपादित करें

कौशलसंपादित करें

सन्दर्भ सामग्रीसभसंपादित करें

  1. "महाभारतक ओ १० पात्र जिनका बहुत कम लोग जनैत अछि!", दैनिक भास्कर, २७ दिसम्बर २०१३, मूलसँ २८ दिसम्बर २०१३-मे सङ्ग्रहित। 

बाह्य जडीसभसंपादित करें

एहो सभ देखीसंपादित करें