महाभारतमे धृतराष्ट्र हस्तिनापुर कऽ महाराज विचित्रवीर्य कऽ प्रथम पत्नी अम्बिका कऽ पुत्र छल। हुनकर जन्म महर्षि वेद व्यासक वरदान स्वरूप भेल छल । हस्तिनापुरक यी नेत्रहीन महाराज सय पुत्रसभ आ एक पुत्रीक पिता छल । हिनकर पत्नीक नाम गान्धारी छल । ई सय पुत्र कौरव कहलाक । दुर्योधनदु:शासन क्रमशः पहिल दुइ पुत्र छल ।

जन्मसम्पादन

अपन पुत्र विचित्रवीर्यक मृत्युक पछा माता सत्यवती अपन सबसँ पहिला जन्मल पुत्र, व्यासक नजीक गेल । अपन माताक आज्ञाक पालन करैत, व्यास मुनि विचित्रवीर्यक दुइटा पत्नीसभक नजीक गेल आ अपन यौगिक शक्तिसभसँ हुनका पुत्र उत्पन्न करैल वरदान देलक। हुनका नेत्रहीनताक कारण हस्तिनापुरक महाराज हिनकर अनुज पाण्डुके नियुक्त केने अछि। पाण्डुक मृत्युक पछा हस्तिनापुरक महाराज बनल ।

सन्दर्भ सामग्रीसभसम्पादन

बाह्य जडीसभसम्पादन

एहो सभ देखीसम्पादन