गुरु राम दास ([ɡʊru ɾɑm dɑs]; पञ्जाबी: ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਰਾਮ ਦਾਸ ਜੀ) (१५३४-१५८१) सिखसभक गुरु छल आ हुनका गुरुक उपाधि ३० अगस्त १५७४ क देल गेल छल । ओहि दिन जब विदेशी आक्रमणकारी एक सहरक बाद दोसर सहर तबाह करि रहल छल, तब 'पञ्चम् नानक' गुरू राम दास जी महाराज एक पवित्र सहर रामसर, जे कि आब अमृतसरक नाम सँ जानल जाइत अछि, क निर्माण केनए छल ।

गुरु राम दास
Guru Ram Das
ਗੁਰੂ ਰਾਮਦਾਸ
गुरु राम दास
गुरुक चित्र, चण्डीगढ सङ्ग्रहालय
जन्मभाई जेठा
9 October 1534 (-१०-०९)
चुना मन्डी, लाहोर, पञ्जाब, पाकिस्तान
मृत्युआकृति:Death-date and age
गोइन्दभाल, भारत
अन्य नामचारिम गुरु
रोजगारगुरु
कार्यकाल१५७४-१५८१
प्रसिद्धी कारणअमृतसर सहरक स्थापनाकर्ता
अग्रजगुरु अमर दास
उत्तराधिकारीगुरु र्जन
जिवनसाथीबिवी भानी
सन्तानबाबा पृथी चन्द, बाबा महान देव, आ गुरु अर्जुन
मातापिताहरि दास आ माता अनुप देवी

जीवनीसम्पादन

सन्दर्भ सामग्रीसभसम्पादन

बाह्य जडीसभसम्पादन

एहो सभ देखीसम्पादन