रवीन्द्र जैन (२८ फरवरी १९४४- ९ अक्टूबर, २०१५) हिन्दी फ़िल्मसभके जानल-मानल सङ्गीतकार आर गीतकार छल। रवीन्द्र जैन अपन फ़िल्मी सफ़रक शुरुआत फ़िल्म सौदागर सँ केएने छल जहिमे गीत सहो लिखने छल आर स्वरबद्ध सहो केएने छल।

रवीन्द्र जैन
RavindraJain.jpg
रवीन्द्र जैन गीत गाबैत
जन्म (१९४४-०२-२८) २८ फरबरी १९४४ (उमर ७८)
मृत्यु९ अक्टूबर २०१५
व्यवसायसङ्गीतकार, गीतकार
सक्रिय वर्ष१९७४ सँ
जीवनसाथी(सभ)दिव्या जैन
बालबच्चाआयुष्मान जैन


जीवनसंपादित करें

रवीन्द्र जैनक जन्म २८ फरवरी १९४४ मे उत्तर प्रदेशक अलीगढ़मे भेल छल।[१] ओ सात भाई-बहिन छल। वर्ष १९७२ मे अपन फिल्मी करियरक शुरुआत केएने छल।[२] जन्म से अंधा[३] भेलाके बाधो हिम्मत पूर्वक कारकिर्दी केलक शरुआत करsके बाद हिन्दी फ़िल्मसभमे गाना गाबिके मशहूर बनि गेल। ओ बलीवुड कs सफर शुरू करै सँ पहिल जैन भजन गाबैत छल। बाध मे हिन्कर हिन्दी फ़िल्मसभमे गीत लोकप्रिय भेल आर बहुतो रास हिट गीतसभ देल्थि।[४] ९ अक्टूबर, २०१५ शुक्रदिन मुम्बईमे हुन्कर निधन भsगेल।[५] रविन्द्र जैन कs भारतीय सिनेमा जगतमे किछ सबसँ खूबसूरत, कर्णप्रिय आर भावपूर्ण गीतसभक लेल हुन्का हरदम याद राखल जाइत।

रवीन्द्र जैनके लोकप्रिय गीत[६]संपादित करें

  • गीत गाता चल, ओ साथी गुनगुनाता चल (गीत गाता चल-1975)
  • जब दीप जले आना (चितचोर-1976)
  • ले जाएंगे, ले जाएंगे, दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे (चोर मचाए शोर-1973)
  • ले तो आए हो हमें सपनों के गांव में (दुल्हन वही जो पिया मन भाए-1977)
  • ठंडे-ठंडे पानी से नहाना चाहिए (पति, पत्नी और वो-1978)
  • एक राधा एक मीरा (राम तेरी गंगा मैली-1985)
  • अंखियों के झरोखों से, मैंने जो देखा सांवरे (अंखियों के झरोखों से-1978)
  • सजना है मुझे सजना के लिए (सौदागर-1973)
  • हर हसीं चीज का मैं तलबगार हूं (सौदागर-1973)
  • श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम (गीत गाता चल-1975)
  • कौन दिशा में लेके (फिल्म नदियां के पार)
  • सुन सायबा सुन, प्यार की धुन (राम तेरी गंगा मैली-1985)
  • मुझे हक है (विवाह)।

पुरस्कार एवं सम्मानसंपादित करें

  • वर्ष २०१५ मे हुन्का पद्मश्री पुरस्कार सँ सम्मानित कएल गेल छल।[७]


सन्दर्भ सामग्रीसभसंपादित करें

बाह्य जडीसभसंपादित करें

इन्टरनेट चलचित्र भण्डारणमे रवीन्द्र जैन

एहो सभ देखीसंपादित करें