मुख्य मेनु खोली
तिलोत्तमाक पावै के लेल आपसमे लडैत राक्षस सुन्द आ उपसुन्द

तिलोत्तमा एक प्रसिद्ध अप्सराक नाम छी।

तिलोत्तमा कश्यपअरिष्टा क कन्या जे पूर्वजन्ममे ब्राह्मणी छल आ जेकरा असमय स्नान करै के अपराधमे अप्सरा होएके शाप मिलल छल। एक दोसर कथाक अनुसार ई कुब्जा नामक स्त्री छल जे अपन तपस्यासँ वैकुण्ठ पद प्राप्त केलक। ओ समय सुन्दउपसुन्द नामक राक्षससभक अत्याचार बहुत बढि गेल छल एही लेल हुनकर संहारक लेल ब्रह्मा विश्वक उत्तम वस्तुसभसँ तिल-तिल सौन्दर्य लावि ई अपूर्व सुन्दरीक रचना केलक (एहीसँ तिलोत्तमा नाम पडल)। ओकरा देखते ही दुनु राक्षस ओकरा पावे के लेल आपसमे लडै लगल आ दुनु एक दोसरद्वारा मारल गेल।

सुन्द आ उपसुन्दक जन्म आ विनाशसम्पादन

देवतासभक फडफडाहटसम्पादन

राजा सहस्रनिकाक लेल अभिशापसम्पादन

जन्म आ पुनर्जन्मसम्पादन

सन्दर्भ सामग्रीसभसम्पादन

बाह्य जडीसभसम्पादन

एहो सभ देखीसम्पादन